स्पिरुलिना के क्या फायदे हैं? स्पिरुलिना (Spirulina) कब और कितनी मात्रा में खाना चाहिए?




स्पिरुलिना के क्या फायदे हैं? स्पिरुलिना कब और कितनी मात्रा में खाना चाहिए?

स्पिरुलिना के क्या फायदे हैं? स्पिरुलिना कब और कितनी मात्रा में खाना चाहिए?


दोस्तों आज मैं बात करूँगा स्पिरुलिना (Spirulina) के बारे में. स्पिरुलिना क्या है? स्पिरुलिना के क्या फायदे हैं? स्पिरुलिना कब और कितनी मात्रा में खाना चाहिए? इन सभी सवालों का जवाब आपको इस पोस्ट में मिलने वाला है. दोस्तों ये सारी जानकारी रिसर्च बेस होगी इनमें तथ्य होंगे, किसी भी उत्पाद को बेचने के लिए बढ़ा चढ़ा के नहीं बताया जायेगा.

स्पिरुलिना क्या है? What is Spirulina?

दोस्तों स्पिरुलिना (Spirulina) एक नील हरित शैवाल (Blue Green Algae) है. जिसको हम आम बोलचाल में काई बोलते हैं. दोस्तों ये एक जलीय पौधा होता है जो पानी के अन्दर होता है. खासकर समुद्री जल में पाया जाता है. दोस्तों ये एक स्प्रिंग के आकार का पौधा होता है.

दोस्तों स्पिरुलिना एक बहुत ही पोपुलर फूड हेल्थ सप्लीमेंट है. इसको सुपर फूड भी कहा जाता है. दोस्तों स्पिरुलिना में बहुत सारे पोषक तत्व और एंटी ओक्सिडेंट मौजूद होते हैं. इस वजह से एस्ट्रोनॉट यानी अंतरिक्ष यात्रियों और सैनिकों फौजियों को स्पिरुलिना के सुप्लिमेंट दिए जाते हैं, ताकि उनका स्टेमिना बढ़ सके, उनका एनर्जी लेवल बढ़ सके और उनके खाने की पूर्ती हो सके.

दोस्तों स्पिरुलिना प्रोटीन का बहुत ही अच्छा स्त्रोत है, 7 ग्राम स्पिरुलिना में 4 ग्राम प्रोटीन पाया जाता है. दोस्तों स्पिरुलिना में पाए जाने वाला प्रोटीन बहुत ही अच्छा प्रोटीन है क्योंकि इसमें सभी जरुरी एमिनो एसिड मौजूद होते हैं. शाकाहारी लोगों के लिए स्पिरुलिना एक बहुत ही अच्छा प्रोटीन का स्त्रोत है.

स्पिरुलिना में विटामिन B1 B2 B3 भी अच्छी मात्रा में पाए जाते हैं. 

स्पिरुलिना में कॉपर और आयरन भी अच्छी मात्रा में पाया जाता है.

इसमें मैंग्निशियम पोटेशियम मैगनीज जैसे मिनिरल्स भी पाए जाते हैं.

ओमेगा 3 और ओमेगा 6 फैटी एसिड इसमें पाए जाते हैं जो की हमारी बॉडी के लिए अच्छे होते हैं.

स्पिरुलिना में एंटी ओक्सिडेंट भरपूर मात्रा में होते हैं जो फ्री रेडिकल से हमारे शरीर की रक्षा करते हैं.


स्पिरुलिना (Spirulina) कब और कितनी मात्रा में खाना चाहिए?


दोस्तों स्पिरुलिना को हम 1 से लेकर 3 ग्राम ले सकते है. और जिन लोगो को ज्यादा जरुरत है वो लोग 1 दिन में 10 ग्राम तक ही ले सकते हैं इससे ज्यादा मात्रा नहीं लेनी चाहिए.

स्पिरुलिना का सेवन हम कैप्सूल या टेबलेट के रूप में कर सकते हैं. अगर आप पाउडर के रूप में सेवन करना चाहते हैं तो आप इसको सूप में डाल कर ले सकते हैं, पानी में घोल के पी सकते हैं.

स्पिरुलिना को अगर आप पाउडर के रूप में ले रहें हैं तो एक छोटे चम्मच का चौथाई हिस्सा सुबह और शाम को लेना चाहिए.  


स्पिरुलिना के सेवन में सावधानियां


दोस्तों यदि हम स्पिरुलिना को 10 ग्राम या अधिक मात्रा में लेतें हैं तो Allergy हो सकती है, मांसपेशियों में दर्द हो सकता है. कुछ लोगों नींद ना आने की भी समस्या भी हो सकती है स्पिरुलिना के अधिक सेवन से.

जिन लोगों को सी फूड से Allergy है उन्हें भी स्पिरुलिना का सेवन नहीं करना चाहिए.
जिन लोगों को ऑटो इम्यून डिसऑर्डर (Auto Immune Disease) है उन्हें भी स्पिरुलिना का सेवन नहीं करना चाहिए.

थाइरोइड के पेशेंट को भी स्पिरुलिना का सेवन नहीं करना चाहिए.

जिनके किडनी में स्टोन है उन्हें भी स्पिरुलिना का सेवन नहीं करना चाहिए.

यदि आप प्रेग्नेंट हैं या फिर ब्रैस्ट फीड करा रहीं है तब भी आप को स्पिरुलिना का सेवन नहीं करना चाहिए.

स्पिरुलिना की सिर्फ 3 प्रजाति ही खाने योग्य होती हैं इसी लिए आपको हमेशा एक ऐसे ब्रांड का स्पिरुलिना लेना चाहिए जो भरोसेमंद हो, प्रचलित हो जिसपर आप भरोसा कर सकते हो.

मार्केट में बहुत सारे ब्रांड हैं जो स्पिरुलिना बेच रहें हैं लेकिन हम सब पर भरोसा नहीं कर सकते, हमें एक अच्छे ब्रांड का स्पिरुलिना ही खरीदना चाहिए.

दोस्तों स्पिरुलिना (Spirulina) सच में एक सुपर फूड है. पोषक तत्वों का खजाना है, प्रोटीन का खजाना है शाकाहारियों के लिए उत्तम है. लेकिन सावधानी ये बरतनी है की ब्रांड का ध्यान रखें, मात्रा का ध्यान रखना है की दिन में कितनी मात्रा हमें लेनी है. बहुत फायदेमंद है इसलिए अधिक मात्रा मे न लें.



शुभकामनाओं के साथ आपका मित्र Raju Gautam .


फ्रेंड्स अगर आपको मेरा ये आर्टिकल अच्छा लगा तो कृपया कमेन्ट  के माध्यम से मुझे बताएं. और इसे अपने दोस्तों 
के साथ WhatsappFacebookTwitterऔर Google+ पर अधिक से अधिक शेयर करें ।


यदि आप अपना कोई आर्टिकल, Inspirational story, कविता या कोई जानकारी जो हिंदी में हो और Hindi Calling .Com में आप हमारे साथ शेयर  करना चाहते हैं, तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें.



हमारी Email Id है:
 hindicalling@gmail.com पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ Hindi Calling .Com में Publish करेंगे.



Thank You.
स्पिरुलिना के क्या फायदे हैं? स्पिरुलिना (Spirulina) कब और कितनी मात्रा में खाना चाहिए? स्पिरुलिना के क्या फायदे हैं? स्पिरुलिना (Spirulina) कब और कितनी मात्रा में खाना चाहिए? Reviewed by Raju Gautam on 11:58 am Rating: 5

कोई टिप्पणी नहीं:

Blogger द्वारा संचालित.